इकोनॉमी में मंदी फिर भी ब्रिटेन ने बढ़ा दी ब्याज दरें, अब भारत पर बढ़ गया दबाव, टेंशन लेने को रहें तैयार


नई दिल्ली : अमेरिका के बाद अब इंग्लैंड में भी प्रमुख ब्याज दरें बढ़ा दी गई हैं। बैंक ऑफ इंग्लैंड (Bank of England) ने गुरुवार को अपनी प्रमुख ब्याज दर को 1.75 फीसदी से बढ़ाकर 2.25 फीसदी कर दिया है। बैंक ऑफ इंग्लैंड ने कहा कि इकोनॉमी के मंदी में जाने के अनुमान के बावजूद वह महंगाई (Inflation) को रोकने के लिए कड़े कदम उठाना जारी रखेगा। बैंक ऑफ इंग्लैंड का अनुमान है कि ब्रिटेन की इकोनॉमी (Britain economy) तीसरी तिमाही में 0.1 फीसदी सिकुड़ जाएगी। महारानी एलिजाबेथ (Queen Elizabeth) के अंतिम संस्कार के लिए अतिरिक्त सार्वजनिक अवकाश के चलते अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी। दूसरी तिमाही में आए उत्पादन में गिरावट को जोड़ दिया जाए तो ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था के टेक्निकल रूप से मंदी में प्रवेश करने का अनुमान है।

अमेरिका ने की दरों में भारी बढ़ोतरी
ब्रिटेन से पहले बुधवार को अमेरिका ने प्रमुख ब्याज दरों (US Fed Interest Rates) में भारी बढ़ोतरी की है। अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व ने प्रमुख ब्याज दर को 0.75 फीसदी बढ़ा दिया है। यूएस फेड ने लगातार तीसरी बार ब्याज दरों में यह भारी बढ़ोतरी की है। इस तरह यूएस फेडरल रिजर्व बैंक अपनी ब्याज दर को बढ़ाकर 3-3.25 फीसदी की रेंज में ले आया है। साथ ही बैंक ने संकेत दिए हैं कि वह आने वाली बैठक में भी ब्याज दरों में बड़ी बढ़ोतरी कर सकता है। केद्रीय बैंक का अनुमान है कि वह ब्याज दरों को साल 2023 तक 4.6 फीसदी तक ले जा सकता है।

हमारे यहां भी ब्याज दर में बढ़ोतरी लगभग तय
अमेरिका और ब्रिटेन के बाद अब जल्द ही भारत में भी ब्याज दरें बढ़ सकती हैं। आरबीआई की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की बैठक (RBI MPC Meet) 28 सितंबर से 30 सितंबर के बीच होने जा रही है। माना जा रहा है कि इस बैठक में आरबीआई रेपो रेट (Repo Rate) में 0.25 से 0.35 फीसदी की बढ़ोतरी का फैसला ले सकता है। बीती 5 अगस्त को आरबीआई ने रेपो रेट को आधा फीसदी बढ़ाकर 5.40 फीसदी कर दिया था। वहीं, ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि सरकार आरबीआई द्वारा ब्याज दरें बढ़ाने के पक्ष में नहीं है।
US Fed Interest Rates : अमेरिकी केंद्रीय बैंक ने लगातार तीसरी बार ब्याज दरों में की भारी बढ़ोतरी, भारत में भी बढ़ने वाली है टेंशन
महंगा हो जाएगा लोन
महंगाई को कंट्रोल करने के लिए केंद्रीय बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी करते हैं। इसके बाद बैंक भी लोन पर ब्याज दरें बढ़ा देंगे। इसका सीधा-सीधा नुकसान लोन (Loan) लेने वालों को होगा। होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन सहित हर तरह के लोन पर ब्याज दरें बढ़ जाएंगी। जिन्होंने पहले से घर के लिए कर्ज ले रखा है, उन्हें ईएमआई (EMI) में अधिक रकम चुकानी होगी।



Source link

MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.