Domino’s News: खबरदार! ये सवाल पूछा तो… डोमिनोज के जॉब इंटरव्‍यू में महिला से पूछी उम्र तो ठोक दिया मुकदमा, कंपनी की सिट्टी-पिट्टी गुम


नई दिल्‍ली: सब कुछ पूछना उम्र नहीं। पूछा तो लेने के देने पड़ जाएंगे। यह चेतावनी उन कंपनियों के लिए है जो मुंह फाड़कर महिलाओं से कुछ भी पूछ लेती हैं। उनकी उम्र भी। दुनिया में पिज्‍जा बनाने के लिए मशहूर डोमिनोज ( Domino’s) को एक महिला से उसकी उम्र पूछना भारी पड़ा है। महिला ने इसके लिए कंपनी पर मुकदमा ठोक दिया। इसने कंपनी की हवाइयां उड़ा दीं। घबराई कंपनी ने माफी मांगकर मामले को किसी तरह रफादफा किया है। मुआवजे (Compensation) में 3 लाख रुपये भी दिए हैं। यह मामला आयरलैंड का है। महिला ने उम्र और लिंग के आधार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया था। उसने डोमिनोज के खिलाफ इसे लेकर मुकदमा कर दिया था।

महिला का नाम जेनिस वॉल्‍श है। बीबीसी न्‍यूज के साथ बातचीत में वॉल्‍श ने खुलासा कि उनसे पहला सवाल उनकी उम्र को लेकर पूछा गया। यह इंटरव्‍यू पिज्‍जा कंपनी की ब्रांच में डिलीवरी ड्राइवर की पोजिशन के लिए था। यह ब्रांच कंट्री टाइरोन के स्‍ट्राबेन में है। महिला ने दावा किया कि सवाल पूछने के बाद इंटरव्‍यू लेने वालों ने उनकी उम्र लिखी और उस पर गोला बना दिया। फिर उनसे कहा गया क‍ि जितनी उम्र वो बता रही हैं उतनी की दिख नहीं रही हैं। बाद में जब वॉल्‍श को अपने रिजेक्‍शन के बारे में पता चला तो उन्‍हें यकीन हो गया था कि इसमें उनकी उम्र और लिंग का मसला था।

मह‍िला से मांगी कंपनी ने माफी
इसके बाद वॉल्‍श ने फेसबुक के जरिये ब्रांच से संपर्क भी किया। यह भी बताया कि इंटरव्‍यू में उन्‍हें किस तरह के भेदभाव का सामना करना पड़ा। बताया जाता है कि उन्‍हें इंटरव्‍यू पैनल से एक माफीभरा खत भी मिला। इसमें इस बात का भी जिक्र किया गया कि पैनल में इंटरव्‍यू लेने वाले एक शख्‍स को इस बात की जानकारी नहीं थी कि साक्षात्‍कार में किसी महिला की उम्र पूछना अनुचित है।

वॉल्‍श को यह भी लगा कि सिर्फ महिला होने के कारण उन्‍हें ड्राइवर की पोजिशन के लायक नहीं समझा गया। वह बताती हैं कि उन्‍होंने सिर्फ पुरुषों को ही ड्राइवरों की भूमिका में देखा है। शायद यही वजह थी कि उन्‍हें इस पद के योग्य नहीं समझा गया। इंटरव्‍यू हो जाने के बाद भी डोमिनोज ने ड्राइवर के पद के लिए विज्ञापन देना जारी रखा।

कानूनी रास्‍ता अपनाया
इसके बाद वॉल्‍श ने कानूनी रास्‍ता अख्तियार किया। उनके दावे को नॉर्दर्न आयरलैंड इक्‍वैलिटी कम‍िशन का समर्थन मिला। आयोग की सीनियर लीगल ऑफिसर मैरी किटसन ने एक बयान में कहा कि रिक्रूटमेंट और सेलेक्‍शन प्रोसेस में जो लोग शामिल हैं, उन्‍हें पता होना चाहिए कि लोगों के पास किस तरह के अधिकार हैं। यह बेहद महत्‍वपूर्ण है कि लोग किसी खास जॉब के लिए अपना निर्णय लेने में पुरानी सोच को नहीं रखें।



Source link

MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.