GST on Pulses: आज देश भर में बंद रहा अनाज और दाल-दलहन कारोबार, जानें क्यों


नई दिल्ली: दाल-दलहन एवं अन्य खाद्यान्नों पर 5 फीसदी जीएसटी (GST on Pulses) लगाने का विरोध गहराने लगा है। इसी वजह से आज पूरे देश में दाल और दलहन का कारोबार पूरी तरह से बंद रहा। दाल कारोबारियों का कहना है कि उनके समर्थन में आज देश भर के सभी चावल मिल और अनाज मंडी भी बंद रहे।

मुकम्मल बंद रहा कारोबार
ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने यहां जारी एक बयान में बताया कि जीएसटी काउंसिल द्वारा दाल-दलहन एवं अन्य खाद्यान्नों के प्री-पेकेज़्ड और प्री-लेबल्ड पर 5% जीएसटी लगाने के विरोध मे सम्पूर्ण भारत मे दाल इंडस्ट्रीज़ का एक दिवसीय कारोबार मुकम्मल बंद रहा। उन्होंने बताया कि भारतीय उद्योग व्यापार मण्डल, नई दिल्ली के आह्वान पर आज देश की सभी दाल इंडस्ट्रीज़ और समस्त प्रकार के खाद्यान्न व्यापार से जुड़े व्यापारी, उद्योगपति एवं कारोबारियों ने अपना सम्पूर्ण कारोबार बंद रखा। इस दिन देश की सभी मंडियां भी बंद रहीं। दाल इंडस्ट्रीज़ के साथ ही खाद्यान्न व्यापार से जुड़े सभी व्यापारी, आढ़तिया, दलाल और देश के सभी अनाज व्यापारी संगठनों ने भी एक दिवसीय बंद का समर्थन करते हुए अपने सम्पूर्ण कारोबार एवं सभी कृषि उपज मंडियों (गल्ला मंडी) को बंद रखा।

प्रधानमंत्री को भेजा ज्ञापन
देश के सभी व्यापारी संगठनों ने जीएसटी निरस्त करने के लिए अपने-अपने जिलों में वाणिज्यिक कर आयुक्त (commercial tax commissioner) एवं जिलाधीश (collector) को ज्ञापन भेजा। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन के नाम भी ज्ञापन सौंपा गया। इनसे मांग की गई कि देश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों और खाद्यान्न व्यापार से जुड़े सभी खुदरा व्यापारियों के हित मे जीएसटी को निरस्त किया जाए। इसमे ऑल इंडिया दल मिल एसोसिएशन, दी हाथरस मर्चेंट्स चेम्बर, हाथरस (उत्तरप्रदेश), दी होलसेल ग्रैन एण्ड सीड मर्चेन्टस एसोसिएशन, नागपुर (महाराष्ट्र), दिल्ली ग्रैन एसोसिएशन, दिल्ली, विदर्भ दाल मिलर्स एसोसिएशन, नागपुर (महाराष्ट्र), डाँ. काटजू मंडी व्यापारी संघ, रतलाम (मध्यप्रदेश), श्री बिष्णु दाल मिल्स एसोसिएशन, कोलकाता (पश्चिम बंगाल), हिंगणघाट मर्चेंट्स एसोसिएशन, हिंगणघाट (महाराष्ट्र), जालना होलसेल किराणा मर्चेंट्स एसोसिएशन, जालना (महाराष्ट्र), दी ग्रैन एण्ड सीड्स मर्चेंट्स एसोसिएशन, गुलबर्गा (कर्नाटक), जबलपुर दाल उद्योग संग, जबलपुर (मध्यप्रदेश), उत्तरप्रदेश दाल मिलर्स एसोसिएशन, कानपुर (उत्तरप्रदेश), रेदीदार एसोसिएशन, कृषि उपज बाजार समिति, अमरावती (महाराष्ट्र), दी बीदर दाल मिल ओनर्स एसोसिएशन, बीदर (कर्नाटक), फेडरेशन ऑफ एसोसिएशन ऑफ महाराष्ट्र ट्रेडर्स, पूना (महाराष्ट्र), दी पूना मर्चेंट्स चेम्बर, पूना (महाराष्ट्र), गल्ला तिलहन व्यापारी संघ, सतना (मध्यप्रदेश), दी सोलापूर दाल मिल ओनर्स एसोसिएशन, सोलापूर (महाराष्ट्र), बीकानेर दाल मिल्स एसोसिएशन, बीकानेर (राजस्थान), दी ए.पी दाल मिलर्स वेल्फेयर एसोसिएशन, गुन्टूर (आंध्रप्रदेश), तमिलनाडु दाल मिलर्स एसोसिएशन, चेन्नई (तमिलनाडु), अकोला दाल मिलर्स एसोसिएशन, अकोला (महाराष्ट्र) आदि शामिल हैं।

पिछले महीने हुआ था फैसला
बीते जून के अंतिम सप्ताह में हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में सभी प्रकार की दालों एवं अन्य खाद्यान्नों पर 5 फीसदी जीएसटी लगाने का फैसला हुआ था। यह फैसला 18 जुलाई 2022 से लागू हो रहा है।

2017 में कुछ और कहा गया था
संस्था अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल का कहना है कि 01 जुलाई 2017 को जीएसटी लागू करने के पूर्व देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बार-बार कहा था कि आवश्यक वस्तुओं और सभी प्रकार के दाल-दलहन एवं खाद्यान्नों पर जीएसटी नहीं लगाया जायेगा। यह ऑन रिकार्ड है। इनका कहना है कि 5 फीसदी जीएसटी लगाने के फैसले से भारत की लगभग 7,300 कृषि उपज मंडियां, 8,000 दाल इंडस्ट्रीज़, समस्त राइस मिल, समस्त आटा मिल, लगभग 30 लाख छोटी-छोटी चक्कियां और तीन करोड़ के आस-पास खुदरा व्यापारी प्रभावित होंगे।



Source link

MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.