Hippo Stores: सपने का घर बनवाने के लिए अब दुकान-दुकान नहीं भटकना होगा, एक ही दुकान में हो सकती है 12,000 प्रोडक्ट की खरीदारी


मकान बनवाते वक्त ढेरों सामानों की जरूरत पड़ती है। इसकी खरीदारी के लिए दुकान-दुकान और बाजार-बाजार घूमना पड़ता है। क्योंकि मकान बनवाने के लिए जरूरी सामान एक जगह नहीं मिलते। किसी बाजार में सैनेटरीवेयर मिलता है तो कहीं रंग-पेंट। प्लाईवुड (Plywood) की अलग दुकान है तो हार्डवेयर (Hardware) की अलग। किसी बाजार में बाथरूम फिटिंग मिलते हैं तो कहीं सरिया। लेकिन अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। अब आप एक छत के नीचे मकान बनवाने के करीब 12,000 प्रोडक्ट खरीद सकते हैं। ऐसा संभव हुआ है हिप्पो स्टोर्स की वजह से। आइए जानते हैं क्या है हिप्पो स्टोर्स…

ढेरों सामानों की जरूरत पड़ती है मकान बनवाने में

मकान बनवाने या इसके मरम्मत करवाने में ईंट, सीमेंट, रेत, बजरी, सरिया से लेकर टाइल्स, फिटिंग, हार्डवेयर, बाथ फिटिंग्स, बाथरूम के सामान, शौचालय के सामान, बेडरूम के सामान, किचन के सामान, प्लाईवुड से लेकर बोर्ड, लेमिनैट्स, फेविकोल, दरवाजे की कुंडी, ताला आदि जैसे हजारों सामान मकान बनवाने में लगते हैं। इसलिए इसे खरीदने के लिए बाजार-बाजार दुकान दुकान चक्कर लगानी पड़ती है। कभी कभी आप सोचते होंगे कि काश, यह सभी सामान एक ही जगह मिल जाए।

भारत में शुरू हो गया है हिप्पो स्टोर्स

आप भी इस तरह से सोच रहे हैं तो आपको बता दूं कि ऐसा संभव हो गया है। ऐसा संभव किया है डायलिया (भारत) समूह ने। डालमिया भारत समूह की एक कंपनी है हिप्पोस्टोर्स टेक्नोलोजी प्राइवेट लिमिटेड। इसने नोएडा के एक प्रसिद्ध मॉल में एक शोरूम शुरू किया है। इसमें मकान बनवाने से जुड़े सारे बिल्डिंग मैटेरियल मिलते हैं। चाहे आप रेत और सीमेंट खोज रहे हैं या फिर बजरी या फिर सरिया।

दाम सुनेंगे तो भौंचक रह जाएंगे

इन सामानों के दाम सुनेंगे तो आप भौंचक रह जाएंगे। क्योंकि, इस दुकान में बिल्डिंग मैटेरियल काफी डिस्काउंट पर मिलते हैं। कुछ सामानों के दाम में तो 70 फीसदी तक के डिस्काउंट का दावा किया गया है। हिप्पो स्टोर्स चलाने वालों का कहना है कि वे सामानों की सोर्सिंग डाइरेक्ट कंपनी से करते हैं। इसलिए उन्हें सामानों की कीमत में जो बचत होती है, उसे ग्राहकों को पास कर दिया जाता है। इसके साथ ही कंपनी समय समय पर आॅफर भी चलाती रहती है। इसमें भी बचत हो जाती है।

अमेरिका है इस क्षेत्र का अगुवा

अपने यहां मल्टीब्रांड स्टोर की शुरूआत को काफी पहले हो गई है। घर गृहस्थी के सामानों के स्टोर भी शुरू हो गए हैं। लेकिन, मकान बनवाने के सामानों का मल्टीब्रांड स्टोर अभी खुला है। हालांकि दुनिया के अनेक देशों में ऐसे दुकान पहले ही खुल चुके हैं। अमेरिका इस क्षेत्र में अगुवा है और वहां होम डिपो के नाम से ऐसे ही दुकानों की श्रृंखला है। इसी तरह थाइलैंड में होम प्रो के नाम से इस तरह के दुकान दिखते हैं। फिलिपीन्स में भी विलकॉन के नाम से ऐसी दुकानें दिखती हैं। भारत में इसी कांसेप्ट पर हिप्पो स्टोर्स को खोला गया है।

भारत में शुरूआत दिल्ली एनसीआर से

भारत में हिप्पो स्टोर्स ने इस तरह के दुकानों की शुरूआत की है। इसने अपना पहला स्टोर पिछले साल दिल्ली के मायापुरी इलाके में खोला। इसकी दूसरी दुकान नोएडा के गार्डेन्स गलेरिया मॉल में खुली। यह दोनों दुकान 50 हजार वर्गफुट में खोली गई है। इनमें 160 ब्रांड के करीब 12000 प्रोडक्ट तो डिसप्ले में लगे हुए हैं। यदि आप कैटलॉग देख कर खरीदारी करें तो आपको यहां घर बनाने से जुड़े 30 हजार प्रोडक्ट मिलेंगे। ये प्रोडक्ट सात कैटेगरी (कंस्ट्रक्शन मैटेरियल, लकड़ी से जुड़े प्रोडक्ट, हार्डवेयर, टाइल्स एंड फ्लोरिंग, बिजली के सामान, पेंट और वॉलपेपर और बाथ फिटिंग्स) में बंटे हुए हैं।

शीघ्र ही पांच और शहरों में

गर्ग का कहना है कि दिल्ली और एनसीआर के हिप्पो स्टोर्स का काफी अच्छा रिस्पांस मिल रहा है। इसी को देखते हुए हिप्पो स्टोर्स के अगले कुछ महीनों में पांच और शहरों में पहुंचने की योजना है। इन शहरों में चंडीगढ़, लखनऊ, देहरादून, इंदौर, भोपाल शामिल हैं। इसके बाद जयपुर में भी पहुंचने की योजना है। कंपनी ने अगले पांच साल में देश के 27 शहरों में पहुंचने का प्लान बनाया है। इन शहरों में 30 से ज्यादा स्टोर होंगे।



Source link

MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.