Indian railway news: बुजुर्गों को फिर मिल सकती है रेल किराये में छूट लेकिन बदल जाएगी उम्र की सीमा


नई दिल्ली: कोरोना काल में सीनियर सिटीजंस को रेल किराये में छूट मिलती थी। लेकिन कोरोना काल में इसे बंद कर दिया गया। कोरोना का प्रकोप कम होने के बाद जब रेल सेवा दोबारा शुरू की गई तो इस सुविधा को बहाल नहीं किया गया। सरकार का कहना था कि इससे उस पर भारी वित्तीय बोझ पड़ रहा है। इस पर सरकार को काफी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। आलोचनाओं के बाद रेलवे सीनियर सिटीजंस के लिए किराए में छूट की सुविधा बहाल करने पर विचार कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक यह छूट केवल सामान्य और शयनयान श्रेणी (Relaxation for General and Sleeper Class Only) के लिए हो सकती है। साथ ही उम्र की सीमा में भी बदलाव किया जा सकता है। किराये में छूट की सुविधा 70 वर्ष से ऊपर के लोगों को मुहैया कराई जा सकती है। पहले 58 वर्ष की महिलाओं और 60 वर्ष के पुरुषों को यह सुविधा मिलती थी।

सूत्रों ने संकेत दिया है कि इसके पीछे मुख्य कारण बुजुर्गों के लिए सब्सिडी बरकरार रखते हुए इन रियायतों को देने से रेलवे पर पड़ने वाले वित्तीय भार का समायोजन करना है। एक सूत्र ने कहा, ‘हम समझते हैं कि ये रियायतें बुजुर्गों की मदद करती हैं और हमने कभी नहीं कहा कि हम इसे पूरी तरह से खत्म करने जा रहे हैं। हम इसकी समीक्षा कर रहे हैं और इस पर फैसला लेंगे।’ सूत्रों ने संकेत दिया कि रेलवे बोर्ड वरिष्ठ नागरिकों की रियायत के लिए आयु मानदंड में बदलाव करने और इसे केवल 70 वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए मुहैया कराने पर विचार कर रहा है। यह रेलवे के बोझ को सीमित करेगा।’

Indian Railway news: यूपी-बिहार जाने वाली कई ट्रेनें कैंसल, कुछ का समय बदला, यहां देखिए पूरी लिस्ट
सभी ट्रेनों में प्रीमियम तत्काल योजना
साल 2020 में कोरोना वायरस महामारी के दौरान वापस लेने से पहले, वरिष्ठ नागरिक रियायत 58 वर्ष और उससे अधिक आयु की महिलाओं और 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के पुरुषों के लिए थी। महिलाएं 50 प्रतिशत छूट के लिए पात्र थीं, पुरुष और ट्रांसजेंडर सभी श्रेणियों में 40 प्रतिशत छूट का लाभ उठा सकते थे। रेलवे जिस एक और प्रावधान पर विचार कर रहा है, वह है रियायतों को केवल गैर-वातानुकूलित श्रेणी की यात्रा तक सीमित करना। एक सूत्र ने कहा, ‘तर्क यह है कि अगर हम इसे शयनयान और सामान्य श्रेणियों तक सीमित रखते हैं, तो हम 70 प्रतिशत यात्रियों को समायोजित कर लेंगे। ये कुछ विकल्प हैं जिन पर हम विचार कर रहे हैं और किसी भी चीज को अंतिम रूप नहीं दिया गया है।’

रेलवे एक अन्य विकल्प पर भी विचार कर रहा है, वह यह है कि सभी ट्रेनों में ‘प्रीमियम तत्काल’ योजना शुरू की जाए। इससे राजस्व बढ़ाने में मदद मिलेगी, जो रियायतों के बोझ को वहन करने में उपयोगी हो सकता है। यह योजना फिलहाल करीब 80 ट्रेनों में लागू है। प्रीमियम तत्काल योजना रेलवे द्वारा शुरू किया गया एक कोटा है जो कुछ सीटें गतिशील किराया मूल्य निर्धारण के साथ आरक्षित करता है। यह कोटा अंतिम समय में यात्रा की योजना बनाने वाले यात्रियों की सुविधा के लिए है जो थोड़ा अतिरिक्त खर्च करने को तैयार हैं। प्रीमियम तत्काल किराये में मूल ट्रेन किराया और अतिरिक्त तत्काल शुल्क शामिल होता है।

Railway news: मनोरंजन के साथ सफर कर सकेंगे बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के रेलयात्री, लोकल ट्रेनों में लगेंगे एलईडी टीवी, इस शहर में हो चुकी है शुरुआत
2,000 करोड़ रुपये का बोझ
पिछले दो दशकों में रेलवे रियायत एक बहुचर्चित विषय रहा है, जिसे कई समितियों ने वापस लेने की सिफारिश की है। इसका नतीजा यह हुआ कि जुलाई 2016 में रेलवे ने बुजुर्गों के लिए रियायत वैकल्पिक बना दिया था। विभिन्न प्रकार के यात्रियों को दी जाने वाली 50 से अधिक प्रकार की रियायतों के कारण रेलवे पर हर साल लगभग 2,000 करोड़ रुपये का भारी बोझ पड़ता है। वरिष्ठ नागरिक रियायत इसके द्वारा दी गई कुल छूट का लगभग 80 प्रतिशत होता है।

इससे पहले, रेलवे ने लोगों को वरिष्ठ नागरिक रियायत को छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करने की कोशिश की थी, लेकिन यह सफल नहीं हुआ। पिछले सप्ताह रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने संसद में एक सवाल के जवाब में कहा था कि रियायतें देने की लागत रेलवे पर भारी पड़ती है। उन्होंने कहा था, ‘विभिन्न चुनौतियों के मद्देनजर वरिष्ठ नागरिकों सहित सभी श्रेणियों के यात्रियों को रियायतें देने का दायरा बढ़ाना वांछनीय नहीं है।’



Source link

MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.