Railway Profit: मेरे पापा ने रेलवे को 90,000 करोड़ का मुनाफा दिया, लालू के लाल तेजस्वी के दावे में कितना दम



नई दिल्ली: पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव (Lalu Yadav) एक बार फिर से चर्चा में हैं। दरअसल, उनके बेटे और बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) ने कल ही बिहार विधानसभा में उनका जिक्र किया था। मौका था बिहार के नए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के विश्वास मत प्राप्त करने का। इस दौरान तेजस्वी ने कहा था कि उनके पापा बेहतरीन रेल मंत्री रहे हैं। उनके कार्यकाल में रेलवे ने 90,000 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है। हम बता रहे हैं कि इस दावे में कितना दम है?

क्या है 90,000 करोड़ रुपये के मुनाफे प्रसंग
जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे हर साल रेल बजट (Rail Budget) के अवसर पर भारी-भरकम मुनाफे का जिक्र करते थे। रेल मंत्रालय (Ministry of Railways) के अधिकारी उस समय बताते थे कि इसे मुनाफा नहीं कहना चाहिए बल्कि सरप्लस (Surplus) कहना चाहिए। जब उन्होंने 13 फरवरी 2009 को अपना अंतिम रेल बजट पेश किया था, तब भी इसका जिक्र हुआ था। दरअसल, साल 2009 चुनावी साल था। इसलिए उन्होंने उस साल अंतरिम रेल बजट (Interim Rail Budget) पेश किया था। इसी बजट में उन्होंने कहा था कि उनके कार्यकाल में रेलवे का कायाकल्प हुआ। इस दौरान रेलवे ने 90,000 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया।

क्या सचमुच हुआ था रेलवे को मुनाफा
यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि लालू प्रसाद यादव के रेल मंत्री रहते हुए सचमुच रेलवे को इतना मुनाफा हुआ था? इसका जवाब उनके बाद रेल मंत्रालय का जिम्मा संभालने वाली तृणमूल कांग्रेस (Trinmul Congress) की सुप्रीमो ममता बनर्जी (Mamata Banarjee) ने साल 2009 में ही दिया था। उन्होंने रेलवे के पिछले पांच साल के काम पर संसद में श्वेत पत्र प्रस्तुत किया था। इसमें बताया गया था कि पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव के कार्यकाल के दौरान रेलवे का मुनाफा सामान्य से भी कम था।

लालू के कार्यकाल में रेलवे का पर्फोमेंस कमतर
लालू प्रसाद के तुरंत बाद देश के रेल मंत्री का जिम्मा ममता बनर्जी ने संभाला था जो अभी पश्चिम बंगाल की मुख्यमत्री हैं। ममता बनर्जी ने 18 दिसंबर 2012 को संसद में दावा किया था कि साल 2004-05 से 2008-09 के दौरान जब लालू प्रसाद यादव संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन यानी यूपीए सरकार में रेल मंत्री थे तब रेलवे का प्रदर्शन आम तौर पर कमतर ही रहा था। दिलचस्प बात यह है कि जिस समय ममता बनर्जी इस रिपोर्ट को संसद में रख रही थी, उस समय पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव भी संसद में मौजूद थे।

हुआ था ऑपरेशन में घाटा
ममता बनर्जी द्वारा संसद में पेश रिपोर्ट के अनुसार साल 2008-09 में रेलवे को यात्री ऑपरेशन में 14 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। स्टेटस पेपर के मुताबिक लालू के शासन के दौरान दस्तावेज़ों और खातों में आंकड़ों में हेर-फेर कर लाभ के आंकड़ों को बढ़ाकर दिखाया गया। इससे रेलवे की वित्तीय स्थिति अच्छी दिखी थी।

रेलवे का सबसे अच्छा समय कब था
उल्लेखनीय है कि लालू प्रसाद यादव अपने रेल मंत्री के कार्यकाल को रेलवे का स्वर्ण युग कहते थे। लेकिन ममता बनर्जी ने रेल मंत्री रहते हुए लालू प्रसाद यादव के कार्यकाल का जो श्वेत पत्र बनवाया था, उसमें उसको गलत साबित किया गया था। इस श्वेत पत्र में कहा गया था कि वित्तीय दृष्टि से रेलवे के लिए पिछले 20 साल में सबसे अच्छा समय वर्ष 1991-96 का था। उस समय केंद्र में पी. वी. नरसिंह राव की सरकार थी और रेल मंत्री का जिम्मा सी.के. जाफ़र शरीफ़ संभाल रहे थे।

लालू यादव ने बताया था श्वेत पत्र को काला पत्र
तत्कालीन रेल मंत्री ममता बनर्जी के उक्त श्वेत पत्र को उसी दिन लालू प्रसाद यादव ने काला पत्र बताया था। उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत में कहा था कि रेलवे के रिकार्ड लाभ का दावा सही है। उनके कार्यकाल का दौर रेलवे का सबसे अच्छा दौर था। इस पर कोई विवाद नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया था कि कुछ अधिकारियों ने ममता बनर्जी को गुमराह किया है। रेल मंत्री को पता लगाना चाहिए वे अधिकारी कौन हैं।

रेल मंत्री बनते ही श्वेत पत्र लाने की घोषणा
तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी ने जून 2009 में रेल मंत्रालय का जिम्मा लिया था। उसाके तुरंत बाद ही उन्होंने घोषणा की थी वह रेलवे की वित्तीय हालत के बारे में श्वेत पत्र पेश करने वाली हैं। उनका कहना था कि रेलवे की स्थिति इतनी अच्छी नहीं है जितना बताया जा रहा है। इसलिए इस पर श्वेत पत्र बनाया जाएगा ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए।
Tejashwi Yadav Mall Raid: गुरुग्राम के अर्बन क्यूब्स-71 मॉल पर CBI का छापा, तेजस्वी यादव का बताया जा रहा कनेक्शन



Source link

MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.